Breaking News
लोकसभा चुनाव 2024 के लिए उत्तराखंड में स्थापित किये जा रहे 11729 पोलिंग बूथ- अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी
लोकसभा चुनाव में लोकप्रिय नेता बने सीएम धामी
मुख्य सचिव ने अधिकारियों / कार्मिकों को मताधिकार की दिलायी शपथ
नानकमत्ता हत्याकांड के दो और षडयंत्रकारियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
तीर्थनगरी ऋषिकेश में गर्मी के तापमान के साथ बढ़ा राफ्टिंग का रोमांच
उत्तराखंड के साथ UP में भी CM धामी का जलवा
घोषणा पत्र में यूसीसी, नकल कानून और लखपति दीदी योजना को तरजीह राज्य का गौरव- भट्ट
कड़े कानून लागू करने से लेकर हर वर्ग का कल्याण किया- मुख्यमंत्री
उत्तराखंड की सोशल मीडिया एक्टिविटीज की भारत निर्वाचन आयोग ने की सराहना – रवि बिजारनीया

केंद्र व राज्य सरकार के नेतृत्व में महिलाओं को मिल रही हर क्षेत्र में प्राथमिकता

रुद्रपुर। आज जिला उधमसिंह नगर के मुख्यालय रुद्रपुर के नगर निगम सभागार में आयोजित कार्यक्रम नारी शक्ति सम्मान में बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कुसुम कण्डवाल के द्वारा गर्भवती महिलाओं की गोद भराई कराई गई, राज्य सरकार की ओर से 5 महिलाओं को महालक्ष्मी किट वितरित की गई तथा इस अवसर पर 6 शिशुओं का अन्नप्राशन भी कराया गया। कार्यक्रम में आयोग की अध्यक्ष कुसुम कण्डवाल द्वारा पांच महिला बीएलओ को श्रेष्ठ कार्य हेतु सम्मानित भी किया गया तथा कार्यक्रम में उपस्थित सभी मातृशक्ति को निष्पक्ष व बिना लालच के मतदान करने के लिए शपथ भी दिलाई गई।

कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि रहते हुए आयोग की अध्यक्ष कुसुम कण्डवाल ने कहा कि आज केंद्र व राज्य सरकार के नेतृत्व में महिलाओं को हर क्षेत्र में प्राथमिकता मिल रही है। आज हमारे राज्य की महिलाशक्ति आत्मनिर्भर हो रही है। उन्होंने कहा कि आज माननीय प्रधानमंत्री  के नेतृत्व में महिलाए हर क्षेत्र में परचम लहरा रही है तथा राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी महिलाओं की सुरक्षा व उनके सशक्तिकरण के प्रति अत्यंत संवेदनशील है।

उन्होंने मातृशक्ति की सम्बोधित करते हुए कहा कि आज गर्व का विषय है कि राज्य के प्रमुख पदों में महिलाएं है। श्रीमती कण्डवाल ने यूसीसी पर राज्य के मुख्यमंत्री व केन्द्रीय नेतृत्व का आभार व्यक्त किया व इसके प्रति महिलाओं को जागरूक करते हुए कहा की यह कानून महिला सुरक्षा व महिलाओं के हितों की रक्षा का काम करेगा और इसका सर्वाधिक लाभ राज्य की मुस्लिम बहनों को मिलेगा उन्हें अब अन्य महिलाओं की भाँति अपने हक और अधिकार प्राप्त होंगे और तीन तलाक जैसी प्रताड़ना से नही झूझना पड़ेगा उन्हें समान अधिकार मिलेंगे।

साथ ही आयोग की अध्यक्ष श्रीमती कंडवाल ने कहा कि हम माता को यह भी देखना होगा कि हमारे बच्चे हमारी संस्कृति व संस्कारों से कैसे जुड़े उन्हें अपनी संस्कृति और संस्कारों की शिक्षा अवश्य देनी होगी क्योंकि यदि आज का युवा स्वस्थ होगा तभी वह शिक्षित भी होगा और स्वावलंबी भी होगा । यह सब संस्कारों के माध्यम से ही संभव है। कार्यक्रम का संचालन जिला प्रोबेशन अधिकारी व्योमा जैन द्वारा किया गया। इस अवसर पर नगर आयुक्त नरेश दुर्गापाल, माही सकलानी, मनीषा राय, रजत दीक्षित, रोली कश्यप, सोनाली जोहरी सहित मातृशक्ति उपस्थित रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top