Breaking News
ओपी राजभर की मां का निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक
PoK को लेकर बोले राजनाथ सिंह, ‘अब तो वहां के लोग भी चाहते हैं कि PM मोदी…’
यह है नरेंद्र मोदी का नया भारत, जहां महिलाओं को मिलता है उनका हक और सम्मान- कंगना रनौत
जानें भारत के कलेंडर में क्या है मानव अंतरिक्ष उड़ान के अंतर्राष्ट्रीय दिवस का इतिहास और महत्व
आखिर क्यों क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी ने अपने बचपन के दोस्त के खिलाफ दर्ज करवायी रिपोर्ट
कांग्रेस की कमजोर सरकार सीमा पर आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं बना पाई – प्रधानमंत्री मोदी
सीबीआई ने BRS नेता के कविता को तिहाड़ जेल से किया गिरफ्तार
कांग्रेस के लिए रामलला नहीं बाबर की मजार रही आस्था का केन्द्र – महाराज
मतदान में गर्भवती महिलाओं की भागीदारी होगी सुनिश्चित

हल्द्वानी: दोस्ती और अवैध संबंध बना प्रकाश कुमार की मौत का कारण

हल्द्वानी दंगे के बहाने रची गई मौत की साजिश, जानें कैसे हुई युवक प्रकाश कुमार की मौत

हल्द्वानी। 8 फरवरी को हल्द्वानी के बनभूलपुरा में उपद्रवियों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान 6 लोगों की मौत हो गई औऱ 60 से ज्यादा लोग घायल हो गए। इसी दंगे में एक बिहार के युवक की भी मौत हुई थी जिसके सर में गोली लगी थी। खबरें तो यह आई कि प्रकाश कुमार हल्द्वानी दंगे में उपद्रवियों का शिकार हुआ औऱ सिर में गोली लगने से उसकी मौत हो गई। दरअसल प्रकाश कुमार की मौत गोली लगने से जरूर हुई थी लेकिन यह गोली उसको दंगे के कारण नही लगी थी, जी हां आपको जानकार हैरानी होगी प्रकाश की मौत हल्द्वानी दंगे के तरह ही सोची समझी साजिश थी। जिसका कारण अवैध संबंध बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि पुलिस कांस्टेबल औऱ उसकी पत्नी इस हत्याकांड को अंजाम दिया था।

एसएसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने किया खुलासा
मामले का खुलासा करते हुए एसएसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने बताया प्रकाश कि मौत उपद्रव में नहीं बल्कि कांस्टेबल द्वारा गोली मारने से हुई थी। इसके आगे एसएसपी ने बताया कि कांस्टेबल की पत्नी के साथ प्रकाश कुमार के अवैध संबंध थे और वह कांस्टेबल की पत्नी को ब्लैकमेल करता था जिस कारण हत्याकांड को अंजाम दिया गया।
कांस्टेबल ने अपनी पत्नी और कुछ लोगों के साथ मिलकर 8 फरवरी को प्रकाश की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है लेकिन कांस्टेबल की पत्नी अभी भी फरार चल रही है।

जानिए पूरा मामला
हालांकि पुलिस को 9 फरवरी को इन्द्रानगर रेलवे फाटक से आगे ऑवला गेट गौलाबाईपास मुख्य सड़क पर प्रकाश का शव बरामद हुआ था। पहले तो पुलिस ने इसे भी हल्द्वानी दंगे का ही हिस्सा समझा। लेकिन जब पुलिस ने मृतक प्रकाश के मोबाईल की डिटेल्स निकाली तो पता चला कि प्रकाश सितारगंज के किसी युवक के संपर्क में था साथ ही उत्तराखण्ड के ही एक और नंबर पर लगातार उसकी बातचीत होती थी।

जब पुलिस ने जांच शुरू की तो प्रकाश सूरज नाम का युवक मृतक का लगभग दो ढाई साल से दोस्त था। और उसके घर भी आता जाता था। इसी दौरान प्रकाश कुमार सिंह के अवैध सम्बन्ध सूरज की बहन और कांस्टेबल की पत्नी प्रियंका के साथ बन गये। मृतक प्रकाश कुमार ने प्रियंका के साथ अवैध शारीरिक सम्बन्ध की वीडियो बनाकर उसे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया था और उससे पैसे की मांग करने लगा था।
प्रियंका ने यह बात अपने पति बीरेन्द्र से छुपा कर रखी लेकिन 7फरवरी को मृतक ने उसके पति बीरेन्द्र को फोन किया गया जिसके बाद प्रियंका ने पूरी बात अपने पति को बता दी। तब बीरेन्द्र ने अपनी पत्नी प्रियंका और अपने साथी नईम खान उर्फ बबलू के साथ मिलकर प्रकाश कुमार सिंह की हत्या करने की साजिश रची।

उसके बाद प्रकाश को हल्द्वानी बुलवाया गया। बीरेन्द्र ने प्रकाश कुमार से अपने मोबाईल से प्रियंका की वीडियो हटाने को कहा। लेकिन प्रकाश कुमार ने मना कर दिया जिसके बाद कांस्टेबल बीरेन्द्र ने बुधवार की शाम को अपने दोस्त के साथ मिलकर प्रकाश की गोली मारकर हत्या कर दी।

15 फरवरी गुरूवार को बीरेन्द्र और उसके साथियो ने पूछताछ के बाद अपना गुनाह कबूल कर लिया।

पुलिस ने धारा 302 के तहत अपराधियों को गिरफ्तार कर हत्या में प्रयोग पिस्टल मय जिन्दा 04 कारतूस भी बरामद कर लिए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top