Breaking News
कार्यों को उलझाने के बजाए सुलझाने की प्रवृत्ति रखें अधिकारी : मुख्यमंत्री
बद्रीनाथ व मंगलौर सीट पर कांग्रेस ने किया अपने प्रत्याशी का ऐलान
एक सितंबर को गैरसैण में होगी मूल निवास स्वाभिमान महारैली, 50 हजार लोगों को जुटाने का रखा गया लक्ष्य
बिहार-बंगाल की सीमा के पास हुआ भीषण ट्रेन हादसा, 5 लोगों की मौत, 25 गंभीर घायल
सीएम योगी ने एम्स में भर्ती अपनी मां से मुलाकात कर ली स्वास्थ्य जानकारी
मुख्यमंत्री ने जल संरक्षण अभियान – 2024 की मार्गदर्शिका का किया विमोचन
कुवैत के हादसे में मारे गए भारतीयों के शवों को अंतिम संस्कार के लिए लाया गया भारत
वनाग्नि की चपेट में आकर झुलसे चार वन कर्मियों को एम्स दिल्ली किया जा रहा शिफ्ट
बढ़ती गर्मी से परेशान पर्यटक मसूरी पहुंचने के लिए कर रहे कड़ी मशक्कत, घंटों इंतजार के बाद मिल रही बस

चीन में भूकंप ने बरपाया कहर, जमींदोज हुई इमारतें, 100 से ज्यादा लोगों की मौत

बीजिंग। चीन के गांसु प्रांत में आए रिक्टर पैमाने पर 6.2 तीव्रता के भीषण भूकंप के बाद 111 लोगों की मौत हो गई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। चीन भूकंप नेटवर्क केंद्र के हवाले से बताया कि भूकंप सोमवार रात 11.59 बजे आया। इसकी गहराई 10 किमी थी। भूकंप का केंद्र लिउगौ टाउनशिप, लिनक्सिया हुई स्वायत्त प्रान्त, गांसु में जिशिशान बाओआन, डोंगजिय़ांग, सालार स्वायत्त काउंटी की काउंटी सीट से लगभग 8 किमी दूर है। भूकंप किंघई के जि़निंग और हैडोंग शहरों में भी ज़ोर से महसूस किया गया, जहां कुछ घर ढह गए और उनमें दरारें आ गईं।

गांसु और पड़ोसी किंघई से लोगों के मरने की सूचना मिली है। प्रांतीय अग्निशमन और बचाव विभाग ने 88 अग्निशमन गाडिय़ों, 12 खोजी और बचाव कुत्तों, 10,000 से अधिक उपकरणों के साथ 580 बचावकर्मियों को आपदा क्षेत्र में भेजा है। रेलवे प्राधिकरण ने भूकंप क्षेत्र से गुजरने वाली यात्री और मालवाहक ट्रेनों को निलंबित कर दिया है और पटरियों की सुरक्षा जांच का आदेश दिया है। दहेजिया टाउनशिप में, जहां भोर में तापमान शून्य से 16 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया, एक स्थानीय अस्पताल में 140 से अधिक चिकित्सा कर्मचारी घायलों की देखभाल में व्यस्त है। राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने गांसु को पूर्ण बचाव प्रयास करने का आदेश दिया है।

एक बयान में, राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि, खोज और बचाव करने, घायलों का समय पर इलाज करने और हताहतों की संख्या को कम करने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिए। गांसु, चीन के सबसे गरीब क्षेत्रों में से एक, तिब्बती और लोएस पठारों के बीच स्थित है और इसकी सीमा मंगोलिया से लगती है। चीन एक ऐसे क्षेत्र में स्थित है जहां कई टेक्टोनिक प्लेटें – विशेष रूप से यूरेशियन, भारतीय और प्रशांत प्लेटें मिलती हैं, और विशेष रूप से भूकंप का खतरा है। देश में सितंबर में, दक्षिण-पश्चिमी सिचुआन प्रांत में 6.6 तीव्रता का भूकंप आने से 60 से अधिक लोग मारे गए थे। 1920 में गांसु में आया भूकंप, जिसमें दो लाख से अधिक लोग मारे गए, इसको 20वीं सदी में दुनिया के सबसे घातक भूकंपों में से एक के रूप में दर्ज किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top